शुक्रवार, 16 मई 2014

Gunaah ya galti

गलती और गुनाह फ़र्क़ होता हैं दोनों में जिसे तुम गलती भी नही कहते कई बार गुनाह होता हैं दूसरो की नजर में और कई बार गुनाह भी छिप जाते हैं गलतियों की आड़ लेकर अहंकार अभिमान और क्रोध अहंब्रह्मास्मि जैसी सोच करदेती हैं रिश्ते को तार -तार आज अहसास नही इस पारदर्शी डोर के टूटने का लेकिन वक़्त गलतियों को गुनाह साबित कर ही देता हैं एक दिन। ………………………………………… नीलिमा शर्मा निविया








आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं मेरे लिखने मे जहा भी आपको गलती देखाई दे . नि;संकोच आलोचना कीजिये .आपकी सराहना और आलोचना का खुले दिल से स्वागत ....शुभम अस्तु

11 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन यक लोकतंत्र है, वोट हमारा मंत्र है... मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (17-05-2014) को ""आ गई अच्छे दिन लाने वाली एक अच्छी सरकार" (चर्चा मंच-1614) पर भी होगी!
    --
    जनतऩ्त्र ने अपनी ताकत का आभास करा दिया।
    दशकों से अपनी गहरी जड़ें जमाए हुए
    कांग्रेस पार्टी को धूल चटा दी और
    भा.ज.पा. के नरेन्द्र मोदी को ताज पहना दिया।
    नयी सरकार का स्वागत और अभिनन्दन।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  3. गुनाहों की सजा मिलती है। बराबर मिलती है।

    जवाब देंहटाएं
  4. गुनाह और गलती ,दोनों में करीबी रिश्ता है और दोनों में अंतर भी है !
    बेटी बन गई बहू

    जवाब देंहटाएं
  5. अहंकार अभिमान
    और क्रोध
    अहंब्रह्मास्मि
    जैसी सोच
    करदेती हैं रिश्ते को
    तार -तार
    … बिलकुल सही
    रिश्तों की मजबूती में अहंब्रह्मास्मि वाली सोच आ जाय तो उन्हें टूटते देर नहीं लगती

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी लिखी रचना मंगलवार 20 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं