शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2009

क्या तुम भी ?????


क्या तुम भी

शाम की दहलीज़ पर

आस का दिया जलाते हो?

ओर किसी आवारा पत्ते की आवाज़ पर

दरवाज़े की तरफ़ भागे जाते हो ?

क्या तुम भी दर्द छिपाने की कोशिश

करते करते .........

अक्सर थक से जाते हो ?

ओर बिना वज़ह से मुस्कराते हो /?

क्या तुम भी नींद से पहले पलकों पर

ढेरो ख्वाब सजाते हो ?

या फ़िर बिस्टर पर लेट कर

रोते रोते सो जाते हो ........................................................................ नीलिमा निविया




4 टिप्‍पणियां:

  1. haan main bhi
    anjaani aahton par daud jati hun
    phir thakaan ko chhupati hun
    khwaab sajati hun
    jane kab
    aansuon se bhari aankhon ke sang so jati hun

    उत्तर देंहटाएं
  2. neend bhi ankho par bojh rakhkar soti hai
    kabhi, palkon pe laali ka bojh,
    aur ankho mein unki tashweer..
    lekar sote the..
    aaj palak sookhe rahte hain..
    aur unke neeche ghata ghanghor
    lekar sote hain..

    उत्तर देंहटाएं