बुधवार, 14 दिसंबर 2011


तेरे यादों का लिहाफ ओढ़ कर 
मे कल सारी रात चलती रही
तुम ऐसे तो न थे
तुम ऐसे कब से हुए..
मैं अपनी उँगलियों में 
...सपनो कि सीपिया पहन के
अधूरी चाहत से
यूँ ही बावरी सी
चलती रही रात भर
दोस्ती आंसुओं से भी कि
...तो कुछ मीठी सरगोशियाँ भी 
याद आयी तुम्हारी..
तुमने कहा था न एक बार
जो तुम बदली तो कसूर मेरा होगा
आज मैं बदली हूँ या तुम
नहीं जानती मैं...
आज भी शाम है मैं नंगे पाँव
सर्द घास पर..
तुझे सोच रही हूँ
.......ख़ामोशी से..
अपनी हाथ कि उस अंगूठी को हिलाते हुए
कुछ भी हो
हो तो तुम मेरे ही 
बदल गए तो क्या हुआ...
मौसम भी तो बदल जाया करते हैं...
फिर भी हम हर मौसम का इंतज़ार करते हैं .
... आओ न.....
मैं इंतज़ार कर रही हूँ..........

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति...

    (अगर आप वर्ड वेरिफिकेसन हटा दें तो कमेन्ट देने में सुविधा रहेगी)

    उत्तर देंहटाएं
  2. उफ़ ..इंतज़ार की पीढा ...मन के दर्द को बताती हुई सी

    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं