शुक्रवार, 6 जनवरी 2012

Birth of a poetry

हर बार नही ढलते
शब्द उस सांचे में
जब लगती है दूसरों की
पीड़ा सबको अपनी .
कागज़ का टुकड़ा
छटपटाहट लिए
रोता है तब
कलम भी थक जाता है
बताकर लाचारी अपनी
मौन रह जाता है अंतर्मन
और आँखें सूनी
कोलाहल सा मच जाता है
ह्रदय में तब मेरे
कसमसाते शब्दों की
पीड़ा कैसे समझाउं अपनी
एक अक्स लकीरों का
कुछ आड़ा कुछ सीधा सा
कुछ बिलकुल सपाट लहजे में
कुछ प्रेमरस से बिंधा सा
शब्दों की गुत्थाम्गुत्थी में
प्रसव पीड़ा झेल रही है
एक छोटी सी ,एक नन्ही सी ,

.
एक प्यारी सी



. कविता मेरी अपनी

40 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों की गुथम-गुत्थी में .
    .प्रसव पीड़ा झेल रही है
    एक छोटी सी ,एक नन्ही सी
    एक प्यारी सी कविता मेरी अपनी .....
    ....बहुत सुंदर रचना नीलिमा जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्दों की गुथम-गुत्थी में .
    .प्रसव पीड़ा झेल रही है
    एक छोटी सी ,एक नन्ही सी
    एक प्यारी सी कविता मेरी अपनी .....
    ....बहुत सुंदर रचना नीलिमा जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sunder panktiya likhi ,, JAB LAGTI HAI DOOSRE KEE PEEDA APNI THANKS NEELAM JII

    उत्तर देंहटाएं
  4. sach kaha neeli...na hi un ahsason ko likh paatey hai na hi samjha paatey hai kisi ko..bas khud se khud me uljhey rah jate hai wo maun jajbaat...

    उत्तर देंहटाएं
  5. kavita ka janm bhi peeda jhelta hai , nahin to shabd apahij hote hain ...peeda hi sampoornta deti hai

    उत्तर देंहटाएं
  6. Prasav Peeda jhelta ye anterman....ajanme vicharon ka poshan karta...nadaan hi to hai...bhrun hatya ka intezaar.....!

    उत्तर देंहटाएं
  7. @kavita ....... ahsas agar pooran rup se baya ho jaye to woh ahsas na hue na ....... tthank you so much

    उत्तर देंहटाएं
  8. @Rashmiprabha........Thank you much ......... aapke protsahit karte shabo k lie ........

    उत्तर देंहटाएं
  9. @ Amit .......... kash mai tum jaisa likh pati ........Thank you so much beta

    उत्तर देंहटाएं
  10. Anonymous .......... bilkul ek kavita ka janm kai vicharo ka poshan karta hai to kai vicharo ki hatya bhi .......... thank you much .....agar aap apne nam se comment karte to mujhe achcha lagta

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये सच है, सोच के पंख कभी कभी फडफाड़ना भूल जाते हैं...
    और फिर लाख कोशिश कर लो, शब्द जुड़ नहीं पाते...
    अन्दर बहुत कुछ चलते रहता है, ...लगता है बस,अब तो हो गया...
    लेकिन वो जो आपने शब्द दिए हैं... वो बेहतरीन शब्द है
    इसके व्यक्त करने के लिए...
    "प्रसव पीड़ा झेल रही होती है कविता...."
    बहुत प्यारी सी रचना...
    शुभकामनायें....

    उत्तर देंहटाएं
  12. Thank you so much mukesh ji.......... aapne hi kaha tha na neelima aap topic change karo kavita ka so ........parinaam aapke samne hai

    उत्तर देंहटाएं
  13. Shabdo ka chayan aur unka prayog bohot hi satik tarike se kiya hai tumne... jo samvednao ko spasht roop de raha hai...bohot bohot bohot achhi lagi ... tumhari KAVITA....

    उत्तर देंहटाएं
  14. हाँ देखो,
    एक नई गीत की
    एक नई प्रीत की
    सुरीली सी आहट
    हो रही है.
    विरह की रात ढल चुकी अब
    सुहानी सुबह हो रही है !!‌

    उत्तर देंहटाएं
  15. @anamica..............Thank you so much ........... meri kavita tumhe pasand aai iske lie mai aapki shukguzar hu

    उत्तर देंहटाएं
  16. हाँ देखो,
    एक नई गीत की
    एक नई प्रीत की
    सुरीली सी आहट
    हो रही है.
    विरह की रात ढल चुकी अब
    सुहानी सुबह हो रही है !!‌.itne pyare comments n protsahan k lie shukriyaa @rakesh jee

    उत्तर देंहटाएं
  17. Bahut hi khubsurat kavita hai di ... hamesha ki tarah....

    उत्तर देंहटाएं
  18. नीलिमा जी सच है, पीड़ा को समझना और उसे शब्दों में उकेरित करना कितना कठिन है ....यह अद्भुत कारनामा करना तो वही जाने, जिसने पीड़ा को अपने भीतर नहीं तो कम से कम दूसरे की पीड़ा को अपने अंतर्मन में अनुभव किया हो...सच ही किसी ने कहा भी है ...
    "मत पूछो यह प्रेम कवि क्यों रोता है
    बस चोट इसी को लगती है,
    जब दर्द किसी को होता है...!"

    उत्तर देंहटाएं
  19. नीलिमा जी सच है, पीड़ा को समझना और उसे शब्दों में उकेरित करना कितना कठिन है ....यह अद्भुत कारनामा करना तो वही जाने, जिसने पीड़ा को अपने भीतर नहीं तो कम से कम दूसरे की पीड़ा को अपने अंतर्मन में अनुभव किया हो...सच ही किसी ने कहा भी है ...
    "मत पूछो यह प्रेम कवि क्यों रोता है
    बस चोट इसी को लगती है,
    जब दर्द किसी को होता है...!"

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  21. @ upasana ,,tumhara comment spam mai tha abhi dekha ......... thank you so much is kavita ko hinddi mai likhne ka ..

    उत्तर देंहटाएं
  22. Wow. ...Kya likhti hai aap....jawab nahi aapka! !!

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह! बहुत सुन्दर प्रस्तुति है आपकी.
    आपके ब्लॉग पर पहली दफा आया.
    आपकी अनुपम भावाभिव्यक्ति ने
    दिल को छू लिया.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपकी हिंदी बहुत अच्छी है..

    उत्तर देंहटाएं
  25. Thank you so much rakesh kumar jee
    jarur aapka blog parne aaongi yeh mera sobhagy hoga

    उत्तर देंहटाएं
  26. neeta .......... neetu ........ shukriyaa bas isi tarah housala barati raha karo

    उत्तर देंहटाएं
  27. rahul.......... thanx . nhi itni bhi achchi nhi .... ab to hindlish ho gyi hai :)))

    उत्तर देंहटाएं
  28. आप तो बहुत ही भावपूर्ण और दिल को छू लेने वाला लिखती हैं.. सच आपकी यह रचना बहुत पसंद आई... इसे जारी रखिए...

    उत्तर देंहटाएं