मंगलवार, 29 जनवरी 2013

प्रार्थना

अभी 
पिछले कुछ बरस तक 
मैं नास्तिक थी 
नही मानती थी 
नही जानती थी 
अस्तित्व को तेरे 

नितांत अपरिचित 
तुम्हारी माया से 
उलझी रहती थी
अपनी मोह माया से

तुमने जिन्दगी की
पहाड़ियों से
घाटियों तक
समंदर से
चोटियों तक
जिन्दगी के सारे
आयाम दिखा दिए

तुमने जो दिया तेरी कृपा
जो न दिया वो अनुकम्पा
जो मेरे लिये सही
वही दिया
मेरे लिए नही सही
नही दिया
मैं हर हाल में तेरी
तेरी मंदिर की जोत मेरी

ओ मेरे रब्बा !!!

ओ मेरे रब्बा !!!
तुम ही तो हो भगवान्
तुम्ही हो खुदा
तुम्ही गुरुज्ञान

आज मेरे रोम रोम में
आलोकित हो तुम
मेरी रग -रग में
प्रकाशित हो तुम

साक्षात् तुम्ही को देखा हैं
साष्टांग तुम्ही को पूजा हैं
दंडवत तुम्ही को चाहा हैं
सच्चे दिल से माना है

बस अब यही अरदास हैं
क्यों दुःख /सुख का
अजीब सा हिसाब हैं
किसी की झोली
खुशियों से भरी
कोई एक मुस्कान
का भी मोहताज हैं
कर दो उस हिस्से की
ख़ुशी का दान
पूजे तुझे हर एक इंसान !!!!

12 टिप्‍पणियां:

  1. बीटिंग द रिट्रीट ऑन ब्लॉग बुलेटिन आज दिल्ली के विजय चौक पर हुये 'बीटिंग द रिट्रीट' के साथ ही इस साल के गणतंत्र दिवस समारोह का समापन हो गया ! आज की 'बीटिंग द रिट्रीट' ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रार्थना अच्छी लगी।

    मेरी नई पोस्ट "एक जानकारी गौरेया के बारे में" को भी अवश्य पढ़े। धन्यवाद।
    ब्लॉग पता है :- गौरेया : gaureya.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. Beautiful Presentation.
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  4. तुम्ही हो बंधु सखा तुम्हीं....सुंदर प्रार्थन...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब ! आस पूरी हो जाये .... आमीन !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही भावपूर्ण निशब्द कर देने वाली रचना . गहरे भाव.

    उत्तर देंहटाएं