गुरुवार, 16 मई 2013

बचपन अनहद नाद सा बजता रहता हैं सांसो में


जिन्दगी की आरोह अवरोह में
झंकृत संगीत सी
 पंचम सुर से सप्तम सुर तक
 ख्याल , टप्पे , ठुमरी  सी

अलंकार की  बेतरतीब लय  में
 फिर भी  यादो  में सज्जित
 मीठी मीठे कलरव सी
 होती रहती हैं गुंजित

 बचपन की
 वोह भूली यादे
 वो कच्ची लड़ाइया

 वोह पक्की कुट्टिया
 फिर अप्पा/ अब्बा  का खेल

 पो शम्पा भाई पो शम्पा
 ऊँच  या नीच  में
 लगड़ी टांग  में
 या छुप्पन  छुपायी

बारात घर की दौड़  या
चन्नी की दूकान
 तितु की शिकायते
 गानों का शोर

 बचपन  अनहद नाद सा
 बजता रहता हैं सांसो में
 अपने भाई -बहनों की यादो संग
 चाहे बसे हो दूर देश में ...................................... नीलिमा

 missing my brothers sisters .:(

5 टिप्‍पणियां:

  1. बचपन भुलाये नहीं भूलती !
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post हे ! भारत के मातायों
    latest postअनुभूति : क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शुक्रवार (17-05-2013) के राजनितिक वंशवाद की फलती फूलती वंशबेल : चर्चा मंच-...1247 में मयंक का कोना पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. बचपन ... का हर क्षण अंतस पे सजीव ही रहता है ....

    उत्तर देंहटाएं