शुक्रवार, 12 जुलाई 2013

न करो ज़ख्म की नुमाइश तुम हर नज़र में यहाँ पे धोका है ग़ज़ल

1.
__-________
साथ अब तो मेरा वहाँ तक है
प्यार का सिलसिला जहाँ तक है

खामशी पूछती है अब तुम से
क्या मोहब्बत फ़क़त बयाँ तक है

खून जो बह रहा है आँखों से
वो वफाओं के हर निशाँ तक है

सुनते थे किस्सा जो रिसालों में
आज वो मेरी दास्ताँ तक है

मुश्किलें रोज़ बढती जाती हैं
ज़िन्दगी सिर्फ इम्तिहाँ तक है

दिल तो बाज़ार में नहीं बिकते
क्यों नज़र उनकी हर दुकाँ तक है

"नीलिमा" ये ग़ज़ल का कहना भी
हाल-ए-दिल है जो बस बयाँ तक है
--------------------------

@2
_____________________

अक्स ऐसा नज़र में सिमटा है
बन्द आँखों से उसको देखा है
बज उठी साँसें उसकी पायल सी
मन ही मन जब उसको सोचा है
उसकी आँखों में इक शरारत है
कितनी मुश्किल से खुद को रोका है
तुम करो न इलाज अब इसका
ज़ख्म दिल का बहुत ही गहरा है
हर्फ़ दर हर्फ़ है मोहब्बत में
फिर लगता है कुछ अधूरा है
न करो ज़ख्म की नुमाइश तुम
हर नज़र में यहाँ पे धोका है
शायरी में मोहब्बतें लिक्खो
"नीलिमा" ये ग़ज़ल का हिस्सा है

24 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शनिवार (13-07-2013) को समय की कमी ने मार डाला में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  2. "नीलिमा" ये ग़ज़ल का कहना भी
    हाल-ए-दिल है जो बस बयाँ तक है
    शायरी में मोहब्बतें लिक्खो
    "नीलिमा" ये ग़ज़ल का हिस्सा है
    बहुत सुंदर और
    बहुत सुंदर ...........

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  6. खामशी पूछती है अब तुम से
    क्या मोहब्बत फ़क़त बयाँ तक है
    ...वाह! बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  7. बहुत सुंदर लिखा नीलिमा ....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  8. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  10. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. आपकी प्रेमपूर्ण टिप्पणी से मैं अभिभूत हूँ। आपका सादर धन्यवाद

      हटाएं