गुरुवार, 10 अक्तूबर 2013

हिंदी अनुवाद सहित पंजाबी नज़्म





इक याद तेरी ने वर्का फोल्या
इक याद मेरी ने  स्याही लिती
 कुछ कुछ यादा तेरिया सी
मिठियां मीठियाँ
 कुछ यादां मेरियां सी
 सौंधी जी अलसाई सी


 वे  रान्झेया
 इक बारी वेल्ली रखी
 तेरे मेरे  विचोड़े ने
 अथरू   भर भर  के
 अँखियाँ इच
 लिखे ने
 पोथियाँ हजार
 

 अज हिज्र ने
 तेरे मेनू
  कमली   कित्ता

 आज चाड दितियाना ने खड्डी ते
सारियां  यादा
 बन'न लई
 एक दुशाला इश्क इच  प्हीजे हुर्फा नाल .............

 लोड मेनू  तेरी  निग दी ...नीलिमा
~~~~~~~~~~
 हिंदी अनुवाद

 एक याद तेरी ने पन्ना खोला
 एक याद मेरी ने स्याही ली
 कुछ यादे तेरी थी
 मीठी मीठी
 कुछ यादे मेरी थी
 सौंधी सी ,अलसाई सी

 ओ राँझा (प्रिय)
 एक अलमारी खाली  रखना
 तेरे मेरे विरह ने
आंसू भर भर कर
आँखों में
 लिखी हैं
 किताबे हजार


 तेरे विरह ने
 मुझे
 पागल किया हैं


 आज मैंने खड्डी ( कपडा बन'ने की मशीन ) पर
 चढा दी हैं सारी यादे
 बन'ने के लिय
 प्यार से भीगे शब्दों  का
शाल

 मुझे जरुरत हैं
 तेरे प्यार की गर्मी की ...................... नीलिमा 

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शुक्रवार - 11/10/2013 को माँ तुम हमेशा याद आती हो .... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः33 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना की ये चन्द पंक्तियाँ.........
    इक याद तेरी ने वर्का फोल्या
    इक याद मेरी ने स्याही लिती
    कुछ कुछ यादां तेरिया सी
    मिठियां मीठियाँ
    शनिवार 12/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    को आलोकित करेगी.... आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है ..........धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर नीलिमा जी ,पंजाबी मीठी जुबान दा जबाब नहीं .
    नई पोस्ट : मंदारं शिखरं दृष्ट्वा
    नई पोस्ट : प्रिय प्रवासी बिसरा गया
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खुबसूरत है नीलिमा जी !
    लेटेस्ट पोस्ट नव दुर्गा

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति ....!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (12-10-2013) को "उठो नव निर्माण करो" (चर्चा मंचःअंक-1396) पर भी होगी!
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं