गुरुवार, 21 नवंबर 2013

विवेक हीन पल

कभी कभी बेवज़ह 
खलबली सी मची रहती हैं 
भीतर 
और 
गुस्सा 
बिना कारन 
अपना अधिकार 
जमा लेता हैं गहरे तक 
अनचाहे ही 
जुबान से फिसलते हैं 
वोह लफ्ज़
जो दिल में नही होते
और हम
उम्र भर धोते हैं
उन लफ्जों का
बरपाया कहर

यह कहर सिर्फ
अपनों पर ही क्यों बरसता हैं
दिल सबका नर्म लहजे को तरसता हैं
शब्द जहर बुझे से आग लगाते हैं
हम कहना कुछ चाहते हैं
परन्तु कह कुछ जाते हैं

कमबख्त उलझने
सोच को कुंठित कर
गाँठ लगा देती हैं
और सडांध मच जाती हैं भीतर
कुछ ऐसी बातो की
जो भीतर भीतर
चिंगारी सी
जलती हैं
और भभक उठती हैं
आग बेमौके
और
जल जाता हैं उस में
वजूद सबका
किसी के होने का
किसी के क्यों न होने का

आक्रोश विद्रोह से
तमतमाया जीव
तब भूल जाता हैं
उम्र भर को
कि उम्र भर महसूस होगा
यह एक उम्र के छोटे से पल का
विवेकहीन होना
बस अपना आप खोना

.......................................

नीलिमा शर्मा

8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (23-11-2013) "क्या लिखते रहते हो यूँ ही" “चर्चामंच : चर्चा अंक - 1438” पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति .. विवेक हीन पल में ही आक्रोश और गुस्सा जन्म लेता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. विचारों का सुन्दर प्रवाह

    उत्तर देंहटाएं