सोमवार, 30 दिसंबर 2013

दिसम्बर की आखिरी पूरी रात


दिसम्बर की आखिरी पूरी रात 
और पौष का महिना 
ठण्ड हैं कि थमती नही हैं 
कोहरे के आँचल में दुबकी 
मेरी यादे ठिठुर रही हैं 

जिन्दगी की पग्दंदियाँ
कब चौड़ी सडको पर खुली
और कब फिर से सकरी हुयी
यंत्रवत सी अनजाने में अनचाहे ही

कितनी बार रुदन फूटे
जब जब अपने छूटे
रुदाली सी अंखियाँ बरसी
तस्वीरो से मिलकर उनकी कई बार


कितनी मुस्कान बिखरी लबो पर
कितनी बार खिलखिलाए खुलकर
अपने बरसो बाद मिले तो
छल छल नीर बहा अँखियाँ से


तेरा (१३)साल बीत चला हैं
सब कुछ अर्पण करके तुझको
अब सबकुछ मेरा होगा
खुद को जगा के भीतर मुझको

नए सपनो की जोत जली हैं
मन की मुरझाई कली खिली हैं
नववर्ष की प्रतीक्षित नूतन बेला में
जाते दिसंबर को आखिरी सलाम मेरा



.......नीलिमा शर्मा निविया ....






















आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं मेरे लिखने मे जहा भी आपको गलती देखाई दे . नि;संकोच आलोचना कीजिये .आपकी सराहना और आलोचना का खुले दिल से स्वागत ....शुभम अस्तु

8 टिप्‍पणियां:

  1. हमारी भी सलाम और नववर्ष की शुभकामनाएँ !
    नई पोस्ट मिशन मून
    नई पोस्ट ईशु का जन्म !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (31-12-13) को "वर्ष 2013 की अन्तिम चर्चा" (चर्चा मंच : अंक 1478) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    2013 को विदायी और 2014 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी लिखी रचना बुधवार 01/01/2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना !
    जो दर्द भरा बीत गया, उसको क्यों याद किया जाये
    सचमुच त्यौहार ही है जीवन,ये त्यौहार जिया जाये
    जो बीत गया न वश में है,आने वाला तो वश में हो
    है नया वर्ष आने वाला,सबको सुख प्रेम दिया जाये
    अपने दुःख में तो दुःख पाते,सबके जीवन का अनुभव है
    औरों के दुःख में सुख मिलता,औरों का दुःख जो पिया जाये
    ************नव वर्ष की मंगल कामनाएं*********

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर.......नव वर्ष मंगलमय हो

    उत्तर देंहटाएं
  7. नव वर्ष बीते वर्ष का हर दर्द भुला दे ... आमीन ...
    नव वर्ष की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. कोमल भावो की
    बेहतरीन........आपको भी नववर्ष की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं