गुरुवार, 6 फ़रवरी 2014

नियति हैं नारी की

हर लड़की बीजती हैं सपने यौवन की दहलीज़ पर सलोने से सजीले से सुनहरे सपने और फिर बंद कर उनको मुठी में चली आती हैं साजन की देहरी पर और बिखेर देती हैं उनकी खुशबू अपने आस- पास सपने अंकुरित होंगे या नही निर्भर रहता हैं मिलने वाले प्यार पर कुछ के सपने मिटटी में ही दम तोड़ देते हैं और कुछ अंकुरण की कोख से बाहर ही निकाल पाते हैं कुछ सपने पल्लवित ,पुष्पित होने से पहले रौंद दिए जाते हैं फिर भी लडकिया सपने बीजना बंद नही करती सपनो की क़िस्म बदल जाती हैं बस और फसल का उगने का बेसब्री से रहता हैं इंतज़ार उनको और अछि फसल के लिय मन्नते / व्रत हजारो करती हैं क्युकी तब वोह लडकियां नही रहती माँ बन जाती हैं , बीबी बन जाती हैं और उनके सपने अपने लिय नही अपनों के लिय होते हैं बीजना और फसल उगाना . नियति हैं नारी की


















आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं मेरे लिखने मे जहा भी आपको गलती देखाई दे . नि;संकोच आलोचना कीजिये .आपकी सराहना और आलोचना का खुले दिल से स्वागत ....शुभम अस्तु

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 08/02/2014 को लिंक की जाएगी............... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    कृपया पधारें ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. माँ बन जाती हैं , बीबी बन जाती हैं
    और उनके सपने अपने लिय नही अपनों के लिय होते हैं
    बीजना और फसल उगाना . नियति हैं नारी की
    सच्ची अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. और उनके सपने अपने लिय नही अपनों के लिय होते हैं बीजना और फसल उगाना . नियति हैं नारी की

    bahut hi sunder bhaav

    shubhkamnayen

    उत्तर देंहटाएं