गुरुवार, 28 अगस्त 2014

हम साथ साथ हैं



पत्थर तेरे सीने में भी हैं 
उनके जख्म मेरी रूह पर भी 
तुम कहानिया बनाना जानते 
और मैं लिखना 
तुम शोरमचाना जानते 
और मैं मौन रहना 
.
.
.
हम साथ साथ हैं 
जिन्दगी के हर मुकाम पर

दोस्त बनकर ......


आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं मेरे लिखने मे जहा भी आपको गलती देखाई दे . नि;संकोच आलोचना कीजिये .आपकी सराहना और आलोचना का खुले दिल से स्वागत ....शुभम अस्तु

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (30-08-2014) को "गणपति वन्दन" (चर्चा मंच 1721) पर भी होगी।
    --
    श्रीगणेश चतुर्थी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं