गुरुवार, 30 जुलाई 2015

मौन लफ्ज़

बुत बन गयी
जिन्दा  ही
अपनों के आगे

गुनाह हो गये
उसके मौन  लफ्ज़
और गर्त हो गयी
जिन्दगी

ख़ामोशी
अब हुनर   जो नही रही
शौंक बन रही हैं
 नीलिमा शर्मा






आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं मेरे लिखने मे जहा भी आपको गलती देखाई दे . नि;संकोच आलोचना कीजिये .आपकी सराहना और आलोचना का खुले दिल से स्वागत ....शुभम अस्तु

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (31.07.2015) को "समय का महत्व"(चर्चा अंक-2053) पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर भाव है आपकी कविता में।
    स्वयं शून्य

    उत्तर देंहटाएं