सोमवार, 24 अगस्त 2015

मुश्किल रास्ता







कैसे घूरता हैं वोह नुक्कड़ पर खड़ा लड़का 
घर से स्कूल जाती नव्योवना को 
नीली चुन्नी को देह पर लपेटे 
छिपाने की कोशिश में 
अपने अंग-प्रत्यंग को 
अक्सर मिल जाती हैं उसकी नजर
उन घूरती नजरो से
और टूट जाता हैं
उसके साहस का पहाड़
और उसकी देह
लगा देती है दौड़
पञ्च मीटर की
सेकंड के पांच सोवे हिस्से में
उसके बाद घंटो लगते हैं
उसे सहेजने में
समेटने मेंअपनी बिखरी सांसो को
कल भी तो होगा न
नुक्कड़ पर खड़ा लड़का
और एक बार फिर .....
बिखरेगी उसकी साँसे
दौड़ लगाएगी उसकी कमजोर टाँगे
लड़की होना आसान नही होता .......





















आपका सबका स्वागत हैं .इंसान तभी कुछ सीख पता हैं जब वोह अपनी गलतिया सुधारता हैं मेरे लिखने मे जहा भी आपको गलती देखाई दे . नि;संकोच आलोचना कीजिये .आपकी सराहना और आलोचना का खुले दिल से स्वागत ....शुभम अस्तु

14 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, अमर शहीद राजगुरु जी की १०७ वीं जयंती - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. क्षमा चाहती हूँ तबियत नासाज होने के कारण आने में देरी हुयी आभार आपका

      हटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (26-08-2015) को "कहीं गुम है कोहिनूर जैसा प्याज" (चर्चा अंक-2079) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया शास्त्री जी परन्तु समय से आपकी सूचना देख न पायी क्षमा चाहती हूँ

      हटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 28 अगस्त 2015 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सॉरी यशोदा जी स्वास्थ्य ठीक नही था समय से नही आ पायी आभार आपका

      हटाएं
  4. वाकई , आसान नहीं होता
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया मोनिका जी कब से आपका ब्लॉग भी नही पढ़ा हमने

      हटाएं
  5. दौड़ लगाएगी उसकी कमजोर टाँगे
    लड़की होना आसान नही होता ..
    .... सच आसान नहीं है लड़की होना !
    उसे तो एक पत्थर खोपड़ी में मार देना चाहिए ऐसे घूरते लड़को को

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कहाँ आसान होता उस उम्र में हिम्मत बटोरना ,, शुक्रिया

      हटाएं