शनिवार, 9 फ़रवरी 2013

अंदाज़ से

 अँधेरा  घना 
रात गहरी 
 बरसती बूंदे 
 सर्द हवाए 

 सुगनी  
सोयी  थी 
 चौखट पर 
 झोपड़ी की 
 इंतज़ार में 


 किसनू 
 सो गया 
 हाथ सेक कर 
 उसकी देह से 
 खुद को पाकर 
 नजर -अंदाज़ सा 


 सुगनी 
 लगा रही हैं 
 मलहम 
 अपनी पीठ 
 और कंधे  पर 
 अंदाज़ से  ....................नीलिमा 

5 टिप्‍पणियां: