रविवार, 23 जून 2013

कोल्हू का बैल औरत की जात

गुलाबी सपने 
लाल जोड़ा 
धानी चूड़ियां 
काजल के साथ 

सपने सलोने 
पिया मन मोहने 
रात चांदनी 
दिल की बात 

बैंड बाजा बरात
जयमाला का साथ
फेरो की मंत्रो ध्वनि
अचानक वज्रपात

सेहरे का हटना
दुल्हे का पलट'ना
कार छोटी ,लड़की मोटी
निर्णय अकस्मात्

पिता की पगड़ी
आँखों मैं आंसू
रकम की तगड़ी
जोड़ कर दोनों हाथ

आँखों में आंसू
मन में शंकाए
सहमी सी दुल्हन
अरमानो में घात

सुहाग की सेज
अकेली दुल्हन
ताने उल्हाने
सूनी सी रात


परदेस वापिसी
दुल्हन अकेली
बूढ़े ससुराली
नौकरों सी बात

मायका बेपरवाह
कर दी हैं शादी
निभाना ही होगा
खाकर जू ते लात

छल किसी का
बलि किसी की
कोल्हू का बैल
औरत की जात

10 टिप्‍पणियां:

  1. दुखद सत्य. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  2. छल किसी का
    बलि किसी की
    कोल्हू का बैल
    औरत की जात
    खोखले जज़्बात
    क्या बात क्या बात क्या बात

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज रविवार (24-06-2013) को अनसुनी गुज़ारिश और तांडव शिव का : चर्चामंच 1286 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 26/06/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी कभी ऐसा भी होता है .... यही सोच बदलनी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ye paristhiti pahale bhi thodi bahut thi magar aaj jyada barh gai hai. aur usaka karan aaj ki shiksha se naitik shiksha ka bahiskar kar dena hai.nahi to bharatvars me nai bahu ko ghar me aai hui laxmi maanakar sammanit kiya jata tha aur akela bilkul bhi nahi chhoda jata tha jab tak vo sasural me ghulmil nahi jaati thi isi karan shadi ke baad bhi 2 teen bidai tak jashn ka mahol rakha jata tha.

    उत्तर देंहटाएं