सोमवार, 14 अक्तूबर 2013

श्रृंगार किये दुल्हन

श्रृंगार किये 
नयी नवेली सी दुल्हन 
शर्माते हुए 
लजाते हुए 
कपकपांते हुए 
रखती हैं 
साजन की दहलीज पर
अपना पहला कदम
रस्मो की एक
लम्बी श्रृंखला
रिवाजों की डोर
रिश्तो की भीड़
एक अलसाई सी महक
मन की खामोश चहक
चमकते गहनों का बोझ
नए नए कपड़ो की मौज
फिर भी
अजनबियत का अहसास
फिर भी कुछ
सौंधा सा माहौल
कुछ कुछ अपना सा
ढूढती निघाहे
किसी अपने को
अपनों सी भीड़ में
कनखियों से
मिलन के इंतज़ार में
नयी नवेली सी

श्रृंगार किये
दुल्हन ......................... नीलिमा


Kasturi (कस्तूरी) sanjha kavy sangrah se meri likhi nazm

12 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना मुझे बहुत अच्छी लगी .........
    बुधवार 16/10/2013 को
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    में आपकी प्रतीक्षा करूँगी.... आइएगा न....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .
    नई पोस्ट : रावण जलता नहीं
    विजयादशमी की शुभकामनाएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस पोस्ट की चर्चा, मंगलवार, दिनांक :-15/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -25 पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत प्यारी पंक्तियाँ...

    उत्तर देंहटाएं