रविवार, 20 अक्तूबर 2013

आज मैं चुप हूँ

आज मैं चुप हूँ 







  मैं चुप हूँ बाहर से 
पर भीतर 
ना जाने कितने 
वार्तालाप 
चलते हैं 

और मेरी रूह 
जख्मो से भरी 
रिसती हैं 
देर तलक 

ओ ढ लो मुझे 
तुम बनाकर 
और मैं लिपट जाऊ 
बुक्कल मार कर 

तेरा होना भी हैं 
पर तेरा कहलाना नही हैं 
भरम रखना हैं बस 
तेरे मेरे होने का 
मेरे तेरे होने का 

शब्द चुप हैं शोर मचाते हुए 
और भीतर कोलाहल हैं जज्बातों का 

और मैं गुम हूँ 
सोचते सोचते 
तेरे गालो की डिंपल याद करके 

और तुम .....

तेरी तुम जानो 
मेरी मैं ................. नीलिमा

20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (21-10-2013)
    पिया से गुज़ारिश :चर्चामंच 1405 में "मयंक का कोना"
    पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती आदरेया।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस पोस्ट की चर्चा आज सोमवार, दिनांक : 21/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -31पर.
    आप भी पधारें, सादर ....नीरज पाल।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही गहन भाव और बहुत ही बेहतरीन ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. उसे तोङना आता था उसने तोङ दिया,
    उसे क्या पता दिल किसे कहते है.............
    “अजेय-असीम{Unlimited Potential}”

    उत्तर देंहटाएं
  6. nice lines.
    your most welcome to my blog also.
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं